सोमवार, 30 अगस्त 2010

इन दिनों इच्छाएं, दिन, दुःख, आत्मा, हरी घास और झिलमिलाती रौशनी में...

किसी गहरे दुःख से उबरते ,
उसी दुःख को हांसिल करना होता है,
लौटते -डूबते इस बारिश में ,
एक निर्वासित दिन उम्मीदों  में सर उठाता है ,
इन दिनों - यकायक ...
दूर मैदानों में एकदम हरी घास सुकून देती है ,
जहाँ हवा जोरों से चलती है ,
अंधेरों में देखना उस तरफ ,गाढ़ी आतुरता से 
उन दिनों में, बीते पलों की मौजूदगी में/स्पर्श में दर्ज ,
लेकिन इन दिनों, वक्त की हदों में नहीं मिल पायेंगे हम ,
लेकिन मिलेंगे जब ,पूछूंगी,
इस अश्मिभूत आत्मा में ,
एक साथ जीते हुए- जीते जी,बिसराए जाने और स्मृति के बीच ,
कितना बचेगा कुछ,कोई अपना ,
ऐसा क्या था आखिर जिसे अपना ना कह सके ,
जिसके लिए जिये-मरे अनगिन बार ,
मौसम रखेंगें क्या हिसाब? 
अकस्मात लौटते से, अनकहे-अनमने शब्दों की सतह पर ,
निरंतर आवाजाही से ,
एक गहरी लकीर का खिंच जाना 
लरजते-बीतते मौसमों के साथ 
अव्यक्त दुखों संग आद्र हो जाना,
रौशनी में झिलमिलाते -उन दिनों में ..अपने लिए 
आखिर कितना बचेंगे हम,
हड़बड़ी और इस नाउम्मीद सी दुनिया में ,
अपनी आलोकित इक्षाओं से ऊपर 
कब तक 
इन दिनों ये कहना मुश्किल है   

"खुला था उसके लिए हर द्वार... रौशनी भरे आसमान सा... पर वह उस रौशनी से चुन रहा था अपनी चारदीवारी... " 
(-अमिता शर्मा)

13 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

अस्तित्व को तो बचाना ही होगा।

dimple ने कहा…

कविता ऐसे जैसे कोई स्वप्न हो..
हड़बड़ी और इस नाउम्मीद सी दुनिया में कब तक बचेंगे हम.सवाल मस्तिष्क की गुफा से टकरा टकरा लौट आता है.

kshama ने कहा…

किसी गहरे दुःख से उबरते ,
उसी दुःख को हांसिल करना होता है,
लौटते -डूबते इस बारिश में ,
एक निर्वासित दिन उम्मीदों में सर उठाता है ,
इन दिनों - यकायक ...
दूर मैदानों में एकदम हरी घास सुकून देती है ,
जहाँ हवा जोरों से चलती है ,
Ye panktiyan hee gahraa sukoon de gayeen!

अनिल कान्त : ने कहा…

कविता मन से लेकर मस्तिष्क में एक आवेग भर देती है....वैसे भी आपकी रचनाओं को पढना एक अलग ही अनुभूति देती है

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

हर पंक्ति अपने अंदाज़ में अपनी बात कहती है ..आपका लिखा तो वैसे ही बहुत गहराई तक ले जाता है ..

डॉ .अनुराग ने कहा…

डूबता तैरता .....किसी किनारे बमुश्किल ठहरा हूँ....शब्दों की इस नदी में जिसे जिंदगी के समुन्दर से जा मिलना है ......

you are an amazing writer...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

जब तक सांस है तब तक जेवन है ... ये सच है की कोई उम्मीद नही है दुनिया से पर फिर भी आस तो है .....

Akhtar Khan Akela ने कहा…

bhn ji aapki rchnaa pdhi bhut khub abhivykti he . akhtar khan akela kota rajsthan

सुधीर ने कहा…

आपकी रचनाएँ बहुत अच्छी लगीं ..

शरद कोकास ने कहा…

बहुत गहन अर्थ लिये हुए है यह कविता ।

अपूर्व ने कहा…

निर्वासित दिन की डूबती-लौटती उम्मीदें..
कितना कुछ है इस कविता सी कविता मे जिसे शब्दों की हदों मे बाँध पाना बड़ा मुश्किल सा है..अनबोले मौसम सा...सो हमें छू भर के खिड़की से बाहर निकल जाता है...

दीपशिखा वर्मा / DEEPSHIKHA VERMA ने कहा…

"जिसके लिए जिये-मरे अनगिन बार .."

यूँ नरमी से चीरते गए आपके लफ्ज़ . .

गिरीश बिल्लोरे ने कहा…

अति सुन्दर
वाह
1. ब्लाग4वार्ता :83 लिंक्स
2. मिसफ़िट पर बेडरूम
लिंक न खुलें तो सूचना पर अंकित ब्लाग के नाम पर क्लिक कीजिये