रविवार, 11 जनवरी 2009

भोपाल के ताल कोहरे में लिपटे ..आज की एक सर्द और उदास शाम में
















10 टिप्‍पणियां:

SWAPN ने कहा…

man mohak chitra. badhai, aur dhanyawad mere blog par aane ke liye.

Parul ने कहा…

kitni sundar shaam hai...

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

भोपाल के ताल कोहरे में लिपटे ..आज की एक सर्द और उदास शाम में
मौके के हिसाब से आपने बहुत शानदार चित्र खींचे हैं. बधाई.

और आपने जो चित्र ब्लाग हैड पर लगा रखा है वो तो कमाल का सजीव फ़ोटो है, मैने इतना कमाल का फ़ोटो नही देखा, कहां का है?

रामराम.

अनिल कान्त : ने कहा…

mein ek baar Bhogaya gaya tha lekin is tarah ghoomne ka mauka nahi mila....dhanyvaad Bhopal ki jhalak dikhane ke liye

विनय ने कहा…

चित्त को शान्त कर देने वाले मनोरम दृश्य

---मेरा पृष्ठ
चाँद, बादल और शाम

आशीष ने कहा…

खूबसूरत...लेकिन आज यही झील पाली के लिए प्यासी है..स्थिति बहुत बुरी हो गई है..लेकिन हम लोग लगे हैं इसे बचाने में.....

मुकेश कुमार तिवारी ने कहा…

विधु जी,

आज सुबह चिट्ठाजगत में ताना-बाना की टिप्पणियाँ पढते हुये आपके ब्लॉग पर आने का मौका मिला. कमाल किया है छायाकार ने भोपाल के ताल वैसे ही नही कहे जाते हैं कहावतों में. और कोहरे में डूबे झिलमिलाते हुये देखना बहुत ही अच्छा लगा.

मुकेश कुमार तिवारी
मेरा ब्लॉग : " कवितायन " जहाँ आप मेरी कविताओं को पढ सकती हैं
http://tiwarimukesh.blogspot.com

Bahadur Patel ने कहा…

bahut achchhi chhayayen.
dhanywaad.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

बहुत सुंदर शाम के चित्र हैं

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत ही सुंदर ओर एक से बढ कर एक चित्र, काश इस सुंदरता को हम सब समभाल कर रखते, ओर गण्दगी से इसे खराब ना करते .
धन्यवाद