सोमवार, 28 जून 2010

ढेर से भय से दूर..जाना होगा कहना- एक प्रश्न का स्थिर होना ,एक खुशरंग परिद्रश्य के कुछ हिस्से जब दुनिया से कोई शिकायत नहीं होती ..//

हीं इस तरह नहीं होना था--एक असमंजस उन आँखों में अटक जाता है,तो फिर कैसे होता?..प्रश्न उलझाता है,..उस शाम का अंत. सोच की कई लहरें एक साथ किनारे आती हुई लौट जाती है, एक में अनेक सवालों की तरह तैरती सी....वो टकटकी बांधे देखता है ...मत सोचो ,मन को भी समझाता है --भला यूं भी कोई मन समझता है ,ये भी तो सोच में शामिल होता है, लेकिन अचाहे,गाहे-बगाहे सोच का बोझिल अंधड़ दिल-दिमाग पर सवार हो ही जाता है ,एक चुप्पी दिल में बजती है ---फिसलती सी उसकी नजरें दूसरे सिरे तक जा कर लौटती है,जहाँ तक आँखें द्रश्यों का पीछा कर सकती है ....इसके बीच खिड़की के शीशे ढलती धूप,और कन्नड़ हाउस की मुंडेर पर फडफडाते कबूतर क्षण भर को सोच के दरिया में कंकर की तरह हलचल मचाते हैं लहरों की छोटी भंवर, एंटीक्लॉक वाईस घुमती है ,फिर लौटना ..कहना ..''तुम्हे खुदा पर यकीन है'' नहीं हठात और जल्दबाजी में मिला जवाब सवाल के साथ ही लिपटा सा टेढा-मेढ़ा हो जाता है जवाब तो होना था '' हाँ ''लेकिन इतना अडिग और जमा हुआ जवाब कि सवाल ही हार मान ले...पिघलने लगे ...उसकी आँखे बोलती है अब कुछ नहीं कहा जाता है तो शब्द थोड़ा जगह बनाते हुए उसकी तरफ आते हेँ ''कहा ना नहीं जानता ''कि किस पर यकीन करूँ ---दोनों के बीच आबो हवा नर्म सी होकर गुजरती है शब्द अंधड़ में उड़ने से बच जाते हेँ ,खिड़की से परे टुकड़ों में छोटे-बड़े पल चक्करघिन्नी खाते हुए, मुझे माफ करें और रिहाई दें ,क्या ,क्या दुबारा कहना सुनना आसान होता ...अचकचा जाना गर्म मोम कि बूंदे दिल कि सतह पर गिरती जमती -उधडती जाती है त्वचा कि सात तहों से होकर नीचे तक जाकर ....तुम्हारी पुकार कानो तक नहीं पहुँचती ..ओह अब चौकने कि बारी उसकी थी,मुझे बख्श दें ,शब्द हेरा फेरी करतें हेँ ,वो काबू पाती है ..असमंजस ,पल, सवाल, समय एक अंधड़ की शक्ल में सतही हो अपरोक्ष से लरजते हेँ,तुम तो हम ख्याल थे ,शायद --पल की चुप्पी सालों में बहती है उसी अँधेरी चुप्पी का एक आइस क्यूब ठंडा, सफेद, पारदर्शी- दर सेकण्ड के हिसाब से पिघलता है,इतना छोटा अंतराल ऐसी जलन जैसी सोची ना गई हो --कोई असर नहीं,कोई ठंडक नहीं कोई राहत नहीं , एक जिद्द में कुछ लहराता है,ढेर सी प्रार्थनाएं चौखट पर खडी बुदबुदाती है...वो दालान वो मुंडेर वो कोना वो सीढियां आकाश ताकतें हेँ ,कोई किस मिटटी से बनता है कोई किस से ....चुप्पी घिसटती सी सर उठाती है ..कोई आतुरता नहीं वहां, कहे गये वाक्य जुड़ते से बड़े वाक्य में तब्दील होतें हेँ...फिर अपने ही बोझ तले किसी गहरी खाई में गिरते ...हुए फिर जादुई ढंग से ऊपर खींचते हुए...ध्यान टूटता है आकाश से एक तारा भी ठीक उसी वक्त मांग लो जो मांगना है----वो रूकती सी शब्दों को समेटती है ,ये क्या ?तारा तो तब तक धरती में समा जाता है... कभी पहले मिला जवाब आज में जोड़ लेना होता है ,एक बियाँबान को गुंजाना ..बांस के झुरमुटों से गुजरते-गुजरते शाम ओझल होना ही चाहती है लगता है उसे रोक लिया जाए,,,बहुत आसान था इस तरह उस शाम के साथ कुछ भी रोक लेना उसकी तरफ देखते हुए ....बाहर नीम की हरी शाखाएं कुडमुडाई उड़ान की कोशिश सतह से ऊपर थोड़ा सही, पैर जमीन टटोलतें हेँ, उठती बंद होती आँखों में चाशनी सी घुलती हुई हर तरह के भय से मुक्त, ढेर से भय से दूर.. मोबाइल में काल्पनिक मेसेज देखना, जाना होगा कहना- एक प्रश्न का स्थिर होना ,एक खुशरंग परिद्रश्य के कुछ हिस्से जब दुनिया से कोई शिकायत नहीं होती ..उस शाम का अंत ..बीतती है शाम चुपचाप ना गिनने में..आती हुई-- तारीखें हर दिन अखबारों की हेडलाइंस के ऊपर ब्लेक एंड व्हाइट फिल्मों की तर्ज पर फडफडाती हेँ

यह शब्द-चित्र जब लिखा गया मालूम नहीं था ... शाम का अंत इस सीलन भरे समय में, आईने से रूबरू शब्द होते हैं जैसे , वैसे ही... शब्दों की उर्ध्व गामी यात्राएं जिन्हें सोचा ही नहीं गया..

7 टिप्‍पणियां:

डॉ .अनुराग ने कहा…

..एक बार फिर शब्दों के घने जंगल के भीतर पहुंचा ....जहाँ कई द्रश्य उभरे ...अहसासों के कई मोड़.मिले....जिंदगी के तमाम रंग इस तरह घुले मिले के किसी एक चित्र को पल भर के लिए देखना कठिन था....दूसरे कई रंग जो खींच रहे थे

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत खूबसूरती से एक शब्द चित्र उभार दिया है....भावनाओं कि गहराइयों में दूब कर उकेरा हुआ...सुन्दर अभिव्यक्ति

रंजू भाटिया ने कहा…

एक खुशरंग परिद्रश्य के कुछ हिस्से जब दुनिया से कोई शिकायत नहीं होती.....बहा के ले जाते हैं आपके शब्द चित्र अपने साथ अपने ही दुनिया में जहाँ से लौटना सपने टूटने जैसा लगता है ...

neera ने कहा…

शब्द चित्र या सूरज की रौशनी में घास पर चमकती ओस की बूदें ....

अपूर्व ने कहा…

अद्भुत लगता है यह गद्य-शिल्प..जो पढ़े जाने के देर बाद तक अंतस्‌ के अंधे कुएँ की गहराइयों मे गूँजता रहता है..कि मन की गुत्थियाँ और उलझती जाती हैं..एक यात्रा जिसका समापन उसी जगह पर होता है जहाँ से यह आरंभ हुई थी..मगर यात्रा के आगमन या प्रस्थान-बिंदु महत्वपूर्ण नही रहते..वरन य़ात्रा का समूचा अनुभव ही समय की कुल निधि होते हैं..और मन का सघन अरण्य और सघन होता जाता है..एक एकांत जिसमे हमारे आसपास की उपेक्षणीय व अमूर्त चीजें भी सजीव हो जाती हैं..

ढेर सी प्रार्थनाएं चौखट पर खडी बुदबुदाती है...वो दालान वो मुंडेर वो कोना वो सीढियां आकाश ताकतें हेँ ,कोई किस मिटटी से बनता है कोई किस से ....चुप्पी घिसटती सी सर उठाती है ..कोई आतुरता नहीं वहां, कहे गये वाक्य जुड़ते से बड़े वाक्य में तब्दील होतें हेँ..

सागर ने कहा…

आप लिखती रहिये हम पढ़ रहे हैं...

Vinay ने कहा…

Nice Post

----
तख़लीक़-ए-नज़र
तकनीक-दृष्टा
चाँद, बादल और शाम
गुलाबी कोंपलें
The Vinay Prajapati